ट्रेन में सफ़र करने जा रहे लोग पहले ही बनवा रहे हैं वसीयत के कागज़ात
Breaking News : JK CM says shoots of peace emerging in Kashmir, time right for talks to resolve problem | J&K      SBI revises minimum balance requirement for savings account to Rs 3,000 | National      Protests, shutdown in Kulgam against braid-chopping | J&K      मोदी ने कहा 'छुट्टियों में देश की यात्रा करें युवा', ये सुनते ही माँ बाप ने बंद किया रेडियो | कटाक्ष      
ट्रेन में सफ़र करने जा रहे लोग पहले ही बनवा रहे हैं वसीयत के कागज़ात

 

ट्रेन में सफ़र करने जा रहे लोग पहले ही बनवा रहे हैं वसीयत के कागज़ात

Published on :12 Sep,2017 By :- UNT News Desk


नई दिल्ली: देश में आये दिन रेल दुर्घटना होने की कोई न कोई घटना सामने आ रही है। कभी महाराष्ट्र में ट्रेन पटरी से उतरी मिलती है तो कभी यूपी में! लेकिन इन सब हादसों के बीच ज़मीन-ज़ायदाद और वसीयत बनाने वाले वकीलों की चांदी हो रही है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इन घटनाओं के बाद प्रॉपर्टी की वसीयत बनाने वाले वकीलों के ऑफिस के बाहर लंबी-लंबी लाइनें लगी हुई हैं।
अपनी वसीयत बनवाने आये एक व्यक्ति से जब हमने पूछा कि ”आप तो काफी युवा नज़र आ रहे हैं फिर वसीयत बनवाने की जल्दी क्यों?” तो उन्होंने जवाब दिया कि ”हमारी अगले हफ्ते लखनऊ की ट्रेन है, इसीलिए हम वसीयत बनवा रहे हैं।” हमने हैरानी से फिर पूछा, ”ट्रेन का वसीयत से क्या लेना देना है? क्या रेलवे, आधार कार्ड की जगह वसीयत के डॉक्यूमेंट्स देखने वाली है?” तब उन्होंने जवाब दिया, ”अरे. देख नहीं रहे हैं आप! आए दिन कोई ना कोई एक्सीडेंट हो रहा है। ट्रेन में चढ़ते टाइम भरोसा नहीं होता कि हम ज़िंदा बचेंगे या नहीं! इसीलिए हम अभी से अपनी वसीयत बनवा रहे हैं।”

फिर हमने उससे आगे खड़े व्यक्ति से पूछा कि “क्या आप भी जायदादनामा बनवाने आए हैं?”, तो उन्होंने जवाब दिया ”नहीं भाईसाब, हमारे पास तो कोई जायदाद ही नहीं है पर हमारे पिताजी इसे बनवा रहे हैं, हम बस यही देखने आए हैं कि हमारे नाम पे कितना हिस्सा आएगा। अगले हफ्ते पिताजी की ट्रेन है, हमारे नाम कुछ नहीं किया तो तत्काल टिकट कैंसल करा देंगे।”


Sponsored by : Nexa Peaks Auto